- Date: 16 Nov, 2018(Friday)
Time:
 logo

डा. बरजिंदर सिंह हमदर्द की दसवीं म्यूजिक एलबम 'सरघी' संगीत प्रेमियों को समर्पित

Aug21,2018 | JAGRATI LAHAR BUREAU | JALANDHAR

पत्रकारिता के क्षेत्र में अति व्यस्ततम जीवन यापन करते हुए भी अजीत समाचार प्रकाशन समूह के मुख्य संपादक डा. बरजिंदर सिंह हमदर्द ने संगीत के क्षेत्र में अपनी विशेष पहचान बनाई है और अपनी दसवीं म्यूजिक एलबम 'सरघी' संगीत प्रेमियों को समर्पित की है। इस एलबम में डा. हमदर्द ने गजलों के नामवर हस्ताक्षर डा. जगतार की मानवीय संवेदनाओं के साथ-साथ जीवन के विभिन्न रंगों को अपनी आवाज दी है। एलबम को संगीत प्रसिद्ध संगीतकार ज्वाला प्रसाद ने दिया है। अजीत भवन के रंगभवन में आयोजित एलबम के लोकार्पण समारोह के दौरान डा. बरजिंदर सिंह हमदर्द ने एलबम के गीतों को मंच पर अपनी आवाज में प्रस्तुत करते हुए जहां गणमान्यों का स्वागत किया वहीं डा. जगतार की शायरी को नए आयाम भी दिए। समारोह के दौरान विभिन्न वक्ताओं ने डा. बरजिंदर सिंह हमदर्द के इस प्रयास की न केवल सराहना की बल्कि इसे उनके जीवन का रचनात्मक पक्ष भी बताया। समारोह के दौरान पंजाब के स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू, पुड्डूचेरी के पूर्व राज्यपाल डा. इकबाल सिंह, पूर्व मंत्री डा. दलजीत सिंह चीमा, सांसद चौधरी संतोख सिंह, विधायक राजिंद्र बेरी, सोमप्रकाश, उत्तम हिंदू के मुख्य संपादक इरविन खन्ना, अरविंद चोपड़ा (पंजाब केसरी), इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के पूर्व चेयरमैन तेजिंद्र सिंह बिट्टू, एलपीयू के चेयरमैन रमेश मित्तल, डा. साधू सिंह हमदर्द के चेयरमैन एडवोकेट प्रेम सिंह, न्यासी सुरिंद्र सिंह विरदी, गुरचरण सिंह स्याल, सुरिंद्रपाल सिंह ग्वालियर ने पहले चरण में एलबम का लोकार्पण किया। इसी तरह तीन चरणों में विभिन्न गणमान्यों ने इस एलबम की घूंघट उठाई की रस्म अदा की। पाकिस्तान से लौटने के तुरंत बाद समारोह में पहुंचे पंजाब के स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने अपने संबोधन में कहा कि पत्रकारिता के साथ-साथ संगीत के क्षेत्र में भी डा. हमदर्द की बहुमूल्य योगदान है। उन्होंने अपने शायराना अंदाज में कहा कि - उनके कद का अंदाजा हो नहीं सकता, वो आसमां है फिर भी सिर झुकाए बैठा है। उन्होंने डा. हमदर्द की पारस से तुलना करते हुए कहा कि उनकी महफिल में बैठने का सौभाग्य किसी-किसी को मिलता है। उनकी गायिकी की सराहना करते हुए सिद्धू ने कहा कि युवा गायकों को उनसे प्रेरणा लेते हुए स्वच्छ गायिकी से जुडऩा चाहिए। अपने संबोधन में अकाली दल बादल के प्रवक्ता व पूर्व कैबिनेट मंत्री डा. दलजीत सिंह चीमा ने कहा कि डा. हमदर्द ने जीवन में जो भी काम किया पूरी प्रतिबद्धता के साथ किया। वे हर काम को पूरी शिद्दत के साथ करते हैं और उसे अंजाम तक पहुंचाने तक चैन से नहीं बैठते। श्री आनंदपुर साहिब में निर्मित विरासत-ए-खालसा तथा करतारपुर में बनी जंग-ए-आजादी स्मृतिस्थल इनकी सोच व संकल्प से ही संभव हो पाई है। डा. हमदर्द ने अजीत के माध्यम से पत्रकारिता के क्षेत्र को नई ऊंचाई दी है और हर मुश्किल का डट कर सामना किया है। अपने संबोधन में डा. बरजिंदर सिंह हमदर्द ने गजलगो डा. जगतार के साथ अपनी आत्मीयता का जिक्र करते हुए कहा कि वे उनके पूजनीय पिताश्री स.साधू सिंह हमदर्द के साथी रहे हैं। उन्हें भी डा. जगतार के सन्निध्य का सौभाग्य प्राप्त हुआ। सरघी एलबम उनके प्रति एक छोटी की श्रद्धांजलि है। गायिकी को ईश्वर का वरदान बताते हुए डा. हमदर्द ने कहा कि संगीत उनके जीवन में श्वासों की तरह रचा बसा है और यह सौभाग्य की बात है कि उन्हें संगीत की सेवा का अवसर मिला है। उन्होंने कहाकि उनके जीवन के दो ही शौक हैं एक पत्रकारिता और दूसरा गायन और वे अपने मित्रों तथा शुभचिंतकों के सहयोग से इन क्षेत्रों में कुछ अच्छा करने का प्रयास करते रहते हैं। समारोह के दौरान डा. बरजिंदर सिंह हमदर्द ने हरमोनियम पर गीत पेश करते हुए सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। डा. जगतार की मशहूर रचना 'जदों मूंहजोर ते अन्नी हवा सी तां मैं दीवे वांग चौराहे ते खड़ा सी के साथ सारोह की शुरूआत की। श्रोताओं ने करतल ध्वनि के साथ इस रचना की सराहना की। उन्होंने 'एह दिल जगदा कदी बुझदा है मेरा, है अंगियार कि जुगनू दर्द मेरा, मंजिल ते जो ना पहुंचे पतते ना जो घरांं नूं, तेरिेयां नैणां च सरघी-मेरी अक्खां च शाम, मैं शीशा हां जदों वी मुस्करावे मुस्करावांगा मैं, आदि रचनाएं प्रस्तुत कर पूरे हाल को तालियों से गुंजायमान कर दिया। इस अवसर पर एलबम के लोकार्पण समारोह में श्री शीतल विज (मुख्य संपादक दैनिक सवेरा), एलपीयू के चांसलर अशोक मित्तल, वाइस चांसलर नरेश मित्तल, सतीश जैन (हवेली ग्रुप), केके शर्मा चेयरमैन सिटीजन को-ऑप्रेटिव बैंक, परमवीर सिंह, हरप्रीत सिंह (निदेशक सरब मल्टीपलेक्स) एचएस ढिल्लों, सरबजीत सिंह, लोकनाथ आंगरा, प्रदुमन सिंह जौली, वरिंद्र कुमार शर्मा (डीसी जालंधर), प्रवीण कुमार सिन्हा (पुलिस कमिशनर), कामरेड मंगतराम पासला, पत्रकार जतिंदर पन्नू, साहित्यकार सुरेश सेठ, रछपाल सिंह पाल, उद्योगपति सुखदेव राज, एसवी हांस, मनमोहन कलसी, राजिंद्र सिंह कलसी, जेपी सिंह, कुलबीर सिंह सूरी, पुनीत सहगल, सरबजीत सिंह मक्कड़, भुपिंद्र सिंह मक्कड़, प्रिंसिपल इंदरजीत सिंह, गुरचरण सिंह चन्नी, प्रो. बीएस नारंग, गुरदीप सिंह, गायक दिलजान, मनू सैन, अनादि मिश्रा, तीरथ सिंह ढिल्लों, दीपक जालंधरी, उस्ताद काले राम व संगत राम भी मौजूद थे। डा. बरजिंदर सिंह हमदर्द की गायिकी की प्रशंसा करते हुए उत्तम हिंदू के मुख्य संपादक इरविन खन्ना ने कहा कि समय बीतने के साथ-साथ उनकी गायिकी में निखार के साथ-साथ परिपक्वता का भी समावेश हुआ है। उनकी आवाज दिल को सुकून देती है। उन्होंने कहा कि संगीत मानव को संवेदनशील बनाता है जो मानवता के साथ जुडऩे का साधन बनता है। उनकी गायिकी में पंजाब और पंजाबीयत की महक आती है। उनके गायन का उद्देश्य केवल शौक पूरा करना नहीं बल्कि मातृभाषा पंजाबी के प्रति सच्ची सेवा है। जिस तरह आज की गायिकी कुमार्ग पर चल पड़ी है डा. बरजिंदर सिंह हमदर्द के प्रयास मन को सांत्वना देते हैं। पुड्डूचेरी के पूर्व राज्यपाल डा. इकबाल सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि डा. बरजिंदर सिंह हमदर्द का गायिकी के साथ पुराना लगाव रहा है। वे विद्यार्थी काल से उनके गीत सुनते आरहे हैं। उन्होंने कहा कि गायन एक तपस्या है और डा. हमदर्द ने निरंतर साधना कर अपने इस हुनर को प्रशंसनीय स्तर पर निखारा है। पूर्व राज्यपाल ने कहा कि अपनी एलबम के लिए उच्च कोटि की रचनाएं चयनित करने से डा. बरजिंदर सिंह के उच्च बौद्धिक स्तर का परिचय मिलता है और पता चलता है कि साहित्य में उनकी कितनी गहरी रूचि है। उन्होंने डा. हमदर्द को इस तरह के प्रयास जारी रखने का आग्रह किया। इस अवसर पर डा. जगतार की धर्मपत्नी गरबचन कौर, उनकी लड़की डा. कंचन और डा. नीरज, डा. साधू सिंह हमदर्द ट्रस्ट की ट्रस्टी सरबजीत कौर हमदर्द, अजीत की चीफ एग्जीक्यूटिव सरविंद्र कौर, सीनियर एग्जीक्यूटिव गुरजोत कौर को विशेष रूप से सम्मानित किया गया। मंच संचालन डा. लखविंद्र कौर जौहल ने किया जिन्होंने डा. जगतार की रचनाओं व डा. बरजिंदर सिंह हमदर्द की गायिकी की भरपूर प्रशंसा की।

डा. बरजिंदर सिंह हमदर्द की दसवीं म्यूजिक एलबम 'सरघी' संगीत प्रेमियों को समर्पित 75


Comments


About Us


Jagrati Lahar is an English, Hindi and Punjabi language news paper as well as web portal. Since its launch, Jagrati Lahar has created a niche for itself for true and fast reporting among its readers in India.

Gautam Jalandhari (Editor)

Subscribe Us


Vists Counter

HITS : 5272003

Address


Jagrati Lahar
Jalandhar Bypass Chowk, G T Road (West), Ludhiana - 141008
Mobile: +91 161 5010161 Mobile: +91 81462 00161
Land Line: +91 161 5010161
Email: gautamk05@gmail.com, @: jagratilahar@gmail.com