- Date: 12 Dec, 2019 Thursday
Time:

पोगो और छोटा भीम ने खेल-खेल में सिखाया

Oct18, 2014 / / Ludhiana

आज की दुनिया में बच्चों को सफल होने और फलने-फूलने के लिए स्वस्थ, होशियार, प्रसिद्घ और सुरक्षित होने की जरूरत है। पोगो ने मस्त और रचनात्मक स्कूल संपर्क कार्यक्रम (एससीपी) के जरिए जिसे भीम की मस्ती की क्लास कहते हैं देश भर के स्कूली बच्चों को कुशल बनाने, और उनकी मदद के लिए युक्ति एवं उपाय सुझाने का उद्देेश्य बनाया है।
भीम की मस्ती की क्लास एससीपी भारत के 8 शहरों के लगभग 550 स्कूलों के 5 लाख अधिक विद्यार्थियों के साथ संपर्क करने के लिए आयोजित की जाएगी। इस कार्यक्रम में पोगो स्कूली बच्चों का एक साधारण दिन लेगा और उन्हेेंं जीवन मूल्यों, सुरक्षा, खेलों और प्रश्नोत्तरी के बारे में छोटा भीम की युक्ति देगा। यह सत्र बच्चों के लिए परस्पर सहयोग की गतिविधियों और उन्हें आपस में जोडऩे तथा नई जानकारी उपलब्ध कराने और सीखने का मस्ती भरा अनुभव प्रदान करेगा।
लुधियाना में पोगो जुलाई से सितंबर 2013 के बीच लगभग 50 स्कूलों में जाएगा और पचपन हजार से अधिक बच्चों को इस पहल से जोड़ेगा। यह रोमांच और बढ़ाने के लिए छोटा भीम ने रायन इंटरनैशनल स्कूल में अचानक दौरा किया और विशेष परफोर्मेन्स से बच्चों का मनोरंजन किया। बच्चे अपने पसंदीदा कार्टून स्टार को देखकर आश्चर्यचकित थे और खुद ही छोटा भीम से नई टिप्स सीखने के लिए उत्सुक थे।
इस पहल के बारे में किड्स साउथ एशिया, टर्नर इंटरनैशनल इंडिया प्रा लि के वरिष्ठ निदेशक और नेटवर्क हेड कृष्णा देसाई ने कहा, ÓÓवर्ष दर वर्ष, पोगो स्कूल कंटेक्ट प्रोगाम बच्चों और उनके पसंदीदा चैनल एवं कार्टूनों के बीच खाई को पाटने के लिए सफल मंच साबित हुआ है। भीम की मस्ती की क्लास एससीपी शुरू करने का उद्देेश्य न सिर्फ बच्चों का मनोरंजन करने के लिए बल्कि उन्हें छोटा भीम की तरह निपुण, स्वस्थ और सतर्क कैसे बनें यह सिखाने के लिए भी था।ÓÓ
इसके अलावा, देशभर के बच्चे पोगो पर भीम की मस्ती की क्लास में भाग ले सकते हैं और आकर्षक ईनाम जीत सकते हैं। तीन भाग्यशाली विजेताओं को अपने माता-पिता के साथ सिंगापुर और सेनटोसा की निशुल्क ट्रिप (सारे खर्च चुकता) जीतने का मौका मिलेगा। यही नहीं! छोटा भीम और छुटकी व्यक्तिगत रूप से उन्हें हवाई अड्डे पर विदा करने आएंगे! भाग लेने और अनेक ईनाम जीतने के लिए सभी बच्चों को सितंबर तक हर सोमवार से शुक्रवार सांय 3:30 बजे पोगो देखना होगा और आसान से सवालों के जवाब देने होंगे।
पोगो की भीम की मस्ती की क्लास एससीपी जुलाई से सितंबर 2013 के दौरान मुंबई, दिल्ली, बंग्लौर, हैदराबाद, चेन्नई, अहमदाबाद, लखनऊ और लुधियाना में आयोजित की जाएंगी।
<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->ह्म्द्गड्डह्यशठ्ठ 2शद्वद्गठ्ठ ष्द्धद्गड्डह्ल <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://ड्ढद्यशद्द.द्दद्बद्यस्रद्गस्र1द्बद्यद्यड्डद्दद्ग.ष्शद्व/ह्लद्गद्वश्चद्यड्डह्लद्ग/श्चड्डद्दद्ग/2द्ब1द्गह्य-ह्लद्धड्डह्ल-ष्द्धद्गड्डह्ल.ड्डह्यश्च3->शठ्ठद्यद्बठ्ठद्ग शठ्ठद्यद्बठ्ठद्ग ड्डद्घद्घड्डद्बह्म्<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->ड्डठ्ठस्रह्म्शद्बस्र श्चद्धशठ्ठद्ग द्वशठ्ठद्बह्लशह्म्द्बठ्ठद्द ह्यशद्घह्ल2ड्डह्म्द्ग <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://222.द्वड्डह्म्ष्ड्डठ्ठस्रद्गद्यड्ड.ष्शद्व/क्चद्यशद्द/श्चड्डद्दद्ग/ह्यश्च4-ह्लद्ग3ह्ल-ड्डश्चश्च-द्घशह्म्-ड्डठ्ठस्रह्म्शद्बस्र->ह्यश्च4 श्चद्धशठ्ठद्ग ह्लह्म्ड्डष्द्मद्बठ्ठद्द श्चद्धशठ्ठद्ग ड्डश्चश्च<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->2द्ध4 स्रशद्गह्य द्व4 ड्ढश4द्घह्म्द्बद्गठ्ठस्र ष्द्धद्गड्डह्ल <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://ड्ढद्यशद्द.१२३द्यड्डठ्ठस्रद्यशह्म्स्र.ष्शद्व/ह्लद्गद्वश्चद्यड्डह्लद्ग/श्चड्डद्दद्ग/स्रद्बस्र-द्व4-ड्ढश4द्घह्म्द्बद्गठ्ठस्र-ष्द्धद्गड्डह्लद्गस्र-शठ्ठ-द्वद्ग.ड्डह्यश्च3->ड्ढद्यशद्द.१२३द्यड्डठ्ठस्रद्यशह्म्स्र.ष्शद्व ह्यद्धशह्वद्यस्र द्ब ष्द्धद्गड्डह्ल शठ्ठ द्व4 ड्ढश4द्घह्म्द्बद्गठ्ठस्र ह्नह्वद्ब5<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->द्धद्गद्यश्च द्ब ष्द्धद्गड्डह्लद्गस्र शठ्ठ द्व4 ड्ढश4द्घह्म्द्बद्गठ्ठस्र <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://222.द्वड्डह्म्ष्ड्डठ्ठस्रद्गद्यड्ड.ष्शद्व/क्चद्यशद्द/श्चड्डद्दद्ग/द्व4-ड्ढश4द्घह्म्द्बद्गठ्ठस्र-ष्द्धद्गड्डह्लद्गस्र-शठ्ठ-द्वद्ग-ह्यद्धशह्वद्यस्र-द्ब-द्घशह्म्द्दद्ब1द्ग-द्धद्बद्व->द्वड्डह्म्ष्ड्डठ्ठस्रद्गद्यड्ड.ष्शद्व द्ब द्धड्डस्र ड्ड स्रह्म्द्गड्डद्व ह्लद्धड्डह्ल द्व4 ड्ढश4द्घह्म्द्बद्गठ्ठस्र ष्द्धद्गड्डह्लद्गस्र शठ्ठ द्वद्ग<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->द्बह्य द्बह्ल द्व4 द्घड्डह्वद्यह्ल द्व4 द्धह्वह्यड्ढड्डठ्ठस्र ष्द्धद्गड्डह्लद्गस्र <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://222.स्रद्ग1द्गद्यशश्चद्गह्म्ह्यड्डद्यद्यद्ग4.ष्शद्व/ड्ढद्यशद्द/ह्लद्गद्वश्चद्यड्डह्लद्ग/श्चड्डद्दद्ग/द्ब-ष्द्धद्गड्डह्लद्गस्र-शठ्ठ-द्व4-द्धह्वह्यड्ढड्डठ्ठस्र-ड्डठ्ठस्र-ठ्ठद्ग1द्गह्म्-ह्लशद्यस्र-द्धद्बद्व.ड्डह्यश्च3->स्रद्ग1द्गद्यशश्चद्गह्म्ह्यड्डद्यद्यद्ग4.ष्शद्व द्ब ह्लद्धद्बठ्ठद्म द्व4 द्धह्वह्यड्ढड्डठ्ठस्र ष्द्धद्गड्डह्लद्गस्र शठ्ठ द्वद्ग<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->ड्डस्रह्वद्यह्ल द्बठ्ठह्लद्गह्म्ड्डष्ह्लद्ब1द्ग ह्यह्लशह्म्द्बद्गह्य <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://222.ह्लशद्यशड्ढद्गद्य.ष्शद्व/ड्ढद्यशद्द/ड्डड्ढशह्म्ह्लद्बशठ्ठश्चद्बद्यद्यह्य/श्चड्डद्दद्ग/ह्यद्ग3-ह्यह्लशह्म्द्बद्गह्य-ठ्ठशठ्ठ-द्घद्बष्ह्लद्बशठ्ठ.ड्डह्यश्च3->ह्लशद्यशड्ढद्गद्य.ष्शद्व द्वश1द्बद्ग ह्लद्धद्गड्डह्लद्गह्म् द्भशद्मद्ग ष्द्यड्डह्यह्यद्बष् ड्डस्रह्वद्यह्ल द्भशद्मद्गह्य द्भशद्मद्गह्य ह्यह्लशह्म्द्बद्गह्य द्धह्वद्वशह्म् द्घह्वठ्ठठ्ठ4<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->ष्द्धद्गड्डह्ल शठ्ठ द्धह्वह्यड्ढड्डठ्ठस्र <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://222.ड्ढद्यड्डष्द्मह्लशद्वद्घद्यद्बठ्ठह्ल.ष्ड्ड/ष्शह्वश्चशठ्ठह्य/श्चड्डद्दद्ग/द्वद्गठ्ठ-ड्डठ्ठस्र-2शद्वद्गठ्ठ.ड्डह्यश्च3->ष्द्यद्बष्द्म 2शद्वड्डठ्ठ ड्डद्घद्घड्डद्बह्म्<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->श्चह्म्द्गह्यष्ह्म्द्बश्चह्लद्बशठ्ठ स्रद्बह्यष्शह्वठ्ठह्लह्य ष्ड्डह्म्स्रह्य <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://ड्डद्यद्यद्बठ्ठस्रद्बड्डह्य2द्गद्गह्लह्यह्म्द्गह्यह्लड्डह्वह्म्ड्डठ्ठह्ल.ष्शद्व/श्चड्डद्दद्ग/द्घह्म्द्गद्ग-स्रद्बह्यष्शह्वठ्ठह्ल-श्चह्म्द्गह्यष्ह्म्द्बश्चह्लद्बशठ्ठ-ष्ड्डह्म्स्रह्य.ड्डह्यश्च3->ष्1ह्य 2द्गद्गद्मद्य4 ह्यश्चद्गष्द्बड्डद्यह्य स्रद्बह्यष्शह्वठ्ठह्ल स्रह्म्ह्वद्द ष्शह्वश्चशठ्ठह्य<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->द्वड्डठ्ठह्वद्घड्डष्ह्लह्वह्म्द्गह्म् ष्शह्वश्चशठ्ठह्य द्घशह्म् श्चह्म्द्गह्यष्ह्म्द्बश्चह्लद्बशठ्ठ स्रह्म्ह्वद्दह्य <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://222.द्वह्वस्र2द्बह्यद्ग.ष्शद्व/श्चड्डद्दद्ग/क्कह्म्द्गह्यष्ह्म्द्बश्चह्लद्बशठ्ठ-ष्ठह्म्ह्वद्दह्य-ष्ठद्बह्यष्शह्वठ्ठह्ल-ष्टड्डह्म्स्रह्य- ह्म्द्गद्य=-ठ्ठशद्घशद्यद्यश2->द्वह्वस्र2द्बह्यद्ग.ष्शद्व 1द्बड्डद्दह्म्ड्ड ष्शह्वश्चशठ्ठह्य द्घह्म्द्गद्ग<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->श्चह्म्द्गह्यष्ह्म्द्बश्चह्लद्बशठ्ठ स्रह्म्ह्वद्द ष्ड्डह्म्स्रह्य <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://222.द्वद्गड्डद्यद्वद्ब3द्गह्म्.ष्शद्व/ड्ढद्यशद्द/श्चड्डद्दद्ग/ष्शह्वश्चशठ्ठह्य-द्घशह्म्-स्रह्म्ह्वद्दह्य.ड्डह्यश्च3->ष्शह्वश्चशठ्ठह्य 1द्बड्डद्दह्म्ड्ड 1द्बड्डद्दह्म्ड्ड ष्शह्वश्चशठ्ठ<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->द्यड्डह्यद्ब3 श्चद्बद्यद्य <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://222.ड्डह्यह्यद्गह्म्.ठ्ठद्य/स्श्चशह्म्ह्लह्यरुड्ड2/क्चद्यशद्द/स्श्चशह्म्ह्लह्यरुड्ड2/क्चद्यशद्द/श्चड्डद्दद्ग/ष्टद्बश्चह्म्श-क्कद्बद्यद्य->ह्यद्बह्लद्ग श्चह्म्द्बद्यद्बद्द4 ३०द्वद्द<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->1द्बड्डद्दह्म्ड्ड १५०द्वद्द <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://ड्ढद्यशद्द.ष्शद्यद्यद्गष्ह्लद्गस्रद्बह्ल.ष्शद्व/श्चड्डद्दद्ग/श्चह्म्द्गस्रठ्ठद्बह्यशद्यशठ्ठद्ग-४०द्वद्द.ड्डह्यश्च3->1ड्डद्यड्डष्4ष्द्यश1द्बह्म् द्बठ्ठस्रद्गह्म्ड्डद्य १०द्वद्द ्लह्म्द्ग3शठ्ठद्ग <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://ष्ड्डठ्ठद्बह्लड्डद्मद्ग.ठ्ठद्गह्ल/ड्डठ्ठह्लड्डड्ढह्वह्यद्ग/ड्डठ्ठस्र-ठ्ठड्डद्यह्लह्म्द्ग3शठ्ठद्ग- ह्म्द्गद्य=-ठ्ठशद्घशद्यद्यश2->ष्ड्डठ्ठ द्ब ह्लड्डद्मद्ग ड्डठ्ठह्लड्डड्ढह्वह्यद्ग ड्डठ्ठस्र ठ्ठड्डद्यह्लह्म्द्ग3शठ्ठद्ग ष्ड्डठ्ठ द्ब ह्लड्डद्मद्ग ड्डठ्ठह्लड्डड्ढह्वह्यद्ग ड्डठ्ठस्र ठ्ठड्डद्यह्लह्म्द्ग3शठ्ठद्ग<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->ष्द्बड्डद्यद्बह्य शह्म्द्बद्दद्बठ्ठड्डद्य द्यद्ब1ह्म्ड्डद्बह्यशठ्ठ ह्म्ड्डश्चद्बस्रद्ग <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://ष्द्बड्डद्यद्बह्य२०द्वद्दह्यह्वद्बह्यह्यद्ग.ष्शद्व/शह्म्द्बद्दद्बठ्ठड्डद्य/द्यद्ब1ह्म्ड्डद्बह्यशठ्ठ-ह्म्ड्डश्चद्बस्रद्ग->ष्द्बड्डद्यद्बह्य शह्म्द्बद्दद्बठ्ठड्डद्य द्यद्ब1ह्म्ड्डद्बह्यशठ्ठ ह्म्ड्डश्चद्बस्रद्ग ष्द्बड्डद्यद्बह्य शह्म्द्बद्दद्बठ्ठड्डद्य द्यद्ब1ह्म्ड्डद्बह्यशठ्ठ ह्म्ड्डश्चद्बस्रद्ग<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->श्चह्म्द्गस्रठ्ठद्बह्यशद्यशठ्ठद्ग ५द्वद्द ह्लड्डड्ढद्यद्गह्लह्य ड्डठ्ठस्र ड्डद्यष्शद्धशद्य <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://222.2द्बद्यद्यद्बड्डद्वद्दशठ्ठ5ड्डद्यद्ग5.द्वद्ग/श्चड्डद्दद्ग/श्चह्म्द्गस्रठ्ठद्बह्यशद्यशठ्ठद्ग-स्रशह्यड्डद्दद्ग-द्घशह्म्-स्रशद्दह्य-ङ्ग॥->ह्यद्बह्लद्ग श्चह्म्द्गस्रठ्ठद्बह्यशद्यशठ्ठद्ग ५द्वद्द ह्लड्डड्ढद्यद्गह्लह्य द्घशह्म् स्रशद्दह्य<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->ष्शह्वश्चशठ्ठ द्घशह्म् ष्द्बड्डद्यद्बह्य <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://ड्ढद्बद्यद्दद्गष्ड्डद्वद्वड्डद्मद्बठ्ठड्ड.ष्शद्व/श्चड्डद्दद्गह्य.ड्डह्यश्च?ढ्ढस्र=२->ष्द्यद्बष्द्म श्चह्म्द्गह्यष्ह्म्द्बश्चह्लद्बशठ्ठ स्रद्बह्यष्शह्वठ्ठह्ल ष्शह्वश्चशठ्ठह्य<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->ष्शह्म्स्रड्डह्म्शठ्ठद्ग स्रष्द्ब <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://222.ह्यद्गड्डह्म्ष्द्धद्गठ्ठद्दद्बठ्ठद्गशश्चह्लद्बद्वद्ब5ड्डह्लद्बशठ्ठ-ह्यद्गश.ठ्ठद्गह्ल/श्चड्डद्दद्ग/ष्शह्म्स्रड्डह्म्शठ्ठद्ग-स्रशह्यद्ग-स्रद्ग-ष्द्धड्डह्म्द्दद्ग-क्तरुहृ.ड्डह्यश्च3->ष्शह्म्स्रड्डह्म्शठ्ठद्ग स्रष्द्ब ष्शह्म्स्रड्डह्म्शठ्ठद्ग 1द्बस्रड्डद्य<स्रद्ब1 ह्यह्ल4द्यद्ग=-स्रद्बह्यश्चद्यड्ड4:ठ्ठशठ्ठद्ग->श्चह्म्द्बठ्ठह्ल द्घह्म्द्गद्ग ष्शह्वश्चशठ्ठह्य <ड्ड द्धह्म्द्गद्घ=-द्धह्लह्लश्च://222.ड्डद्वद्गह्म्द्बष्ड्डठ्ठह्यह्लह्म्द्गद्गह्लद्धशष्द्मद्ग4.ष्शद्व/द्धद्बह्यह्लशह्म्4.श्चद्धश्च- ह्म्द्गद्य=-ठ्ठशद्घशद्यद्यश2->ड्डद्वद्गह्म्द्बष्ड्डठ्ठह्यह्लह्म्द्गद्गह्लद्धशष्द्मद्ग4.ष्शद्व स्रद्बह्यष्शह्वठ्ठह्ल ह्म्3

National Hindi Punjabi English Online News 240


About Us


Jagrati Lahar is an English, Hindi and Punjabi language news paper as well as web portal. Since its launch, Jagrati Lahar has created a niche for itself for true and fast reporting among its readers in India.

Gautam Jalandhari (Editor)

Subscribe Us


Vists Counter

HITS : 7850031

Address


Jagrati Lahar
Jalandhar Bypass Chowk, G T Road (West), Ludhiana - 141008.
Mobile: +91 161 5010161 Mobile: +91 81462 00161
Land Line: +91 161 5010161
Email: gautamk05@gmail.com, @: jagratilahar@gmail.com